Moral Story in Hindi

99 का खेल । हिंदी प्रेरणादायक कहानी – Moral Story in Hindi

दोस्तों आज मैं आपके साथ “99 का खेल – Moral Story in Hindi” को Share करने जा रहा हूँ जो हमे समझती है कि हमारे जीवन में दुखों और असंतुस्टी का कारण क्या है । मुझे उम्मीद है ये आपको जरूर पसंद आएगी ।

एक बहुत ही बड़े राज्य का राजा था । उसके महल में हर छोटी से लेकर बड़ी चीज उपलब्ध थी और उसे कोई भी कमी नहीं थी, फिर भी वह थोड़ा सा भी खुश और संतुष्ट नहीं रहता था । एक बार राजा अपने महल के अंदर टहल रहा था । तभी उसने वहां अपने काम करते हुए एक नौकर को देखा, वह बहुत खुशी से काम करते हुए गाना गाए जा रहा ।

राजा ने उस नौकर को इतना खुश देखकर सोचा कि मेरे पास इतनी बड़ी प्रजा है । हर चीज मेरे लिए उपलब्ध होते हुए भी मैं खुश नहीं हूं और इस नौकर के पास कुछ भी नहीं है । मेरे यहां नौकरी करने के बाद वह अपने घर चला जाता है, इसके बावजूद भी यह इतना खुश कैसे हैं ।

राजा ने आदेश दिया कि इस नौकर को मेरे सामने लाया जाए । अब नौकर डरता हुआ राजा के पास आया और हाथ जोड़कर खड़ा हो गया । राजा ने उसे डरा हुआ देखकर कहा कि

“डरो मत तुम से कोई गलती नहीं हुई है” मैं बस एक प्रश्न का तुमसे उत्तर चाहता हूं कि

तुम्हारे पास धन जायजाद ना होने के बाद भी तुम इतने खुश कैसे हो ?

नौकर ने कहा महाराज मैं एक साधारण सा नौकर हूं । राजमहल में नौकरी करने के बाद अपने घर चला जाता हूं । आप की मेहरबानी से खाने के लिए खाना मिल जाता है और रहने के लिए छत । मेरी और मेरे परिवार को इससे ज्यादा की कोई चाह नहीं है

मगर नौकर के जवाब से राजा को संतुष्टि नहीं मिल रही थी । राजा ने अगले दिन एक सलाहकार को बुलाया और सलाहकार को अपनी सारी परेशानी और उस नौकर के बारे में बताया और राजा ने सलाहकार से कहा कि इसका सही कारण बताओ कि मैं खुश क्यों नहीं हूं ।

सलाहकार ने जवाब दिया महाराज मुझे लगता है कि नौकर ने अभी 99 का खेल नहीं खेला है ।  इसीलिए वह इतना खुश है ।

राजा ने आश्चर्यचकित होकर पूछा कि 99 का खेल क्या होता है ?

सलाहकार ने कहा कि आज रात आप एक पोटली में 99 सिक्के भरवा कर उस नौकर के घर के आगे रखवा दीजिए, आपको सब आसानी से समझ में आ जाएगा । सलाहकार के कहने के अनुसार राजा ने 99 सोने से भरी सिक्कों की पोटली नौकर के घर के बाहर रखवा दिए ।

सुबह उठकर जब नौकर ने दरवाजा खोला तो देखा कि उसके दरवाजे के पास एक पोटली पड़ी हुई है । वह उस पोटली को जल्दी से लेकर घर के अंदर आ गया और खोलकर देखा तो इतने सारे सिक्के देख कर उसके होश ही उड़ गए । वह तो मानो ख़ुशी के मारे पागल ही हुए जा रहा था । अब उसने जल्दी-जल्दी सिक्कों को गिनना शुरू कर दिया ।

सिक्के गिनने के बाद उसे कुल सिक्के मिले तो उसने सोचा कि शायद यह 100 सिक्के हैं और उसके गिनने में ही कोई प्रॉब्लम हुई है । उसने फिर से उन सिक्कों को गिना, लेकिन ये अभी भी 99 ही थे । वह मन ही मन सोचने लगा कि जरूर इस पोटली में 100 सिक्के आए होंगे और एक सिक्का जरूर रास्ते में गिर गया होगा । इसके बाद वह पूरे दिन काम पर नहीं गया और पूरा दिन उसने सिक्को को खोजने में निकाल दिया । फिर रात को घर आया तो सोचने लगा कि वह 100 सिक्के पुरे करके रहेगा । भले ही सोवां सिक्का उसे मेहनत करके कमाना पड़े ।

उस दिन के बाद से वह बहुत मेहनत करने लगा और अपने परिवार वालों को भी काम में सहयोग देने के लिए कहता ताकि 100 सिक्के जल्दी से पूरे हो जाए । उस दिन के बाद से नौकर पूरी तरह बदल गया था । अब वह और उसके परिवार वाले केवल 100 सिक्के पूरे करने के लिए मेहनत करते । उस नौकर को रात को भी यही चिंता सताती थी कि वो कैसे मेहनत कर के ज्यादा पैसे कमा सके ।

दूसरी तरफ राजा उस पर निगरानी रखे हुए था । उस नौकर के व्यवहार में इतना बदलाव देखकर वह राजा बहुत ही आश्चर्यचकित था । राजा ने फिर से सलाहकार को बुलवाकर पूछा

कि आखिर नौकर में इतना परिवर्तन आया कैसे ? इसका कारण क्या है ?

Read Also :- हमेशा Positive कैसे रहें – How to Stay Positive in Hindi

Read Also :- अपनी Problems को कैसे Overcome करें । Moral Story in Hindi

Watch Now :- जीवन में मेहनत कर भी हम सफल क्यों नहीं हों पाते । Motivational Story in Hindi

सलाहकार ने अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए कहा यह है कि महाराज यही तो है 99 का खेल मतलब लोग 99 को 100 करने के चक्कर में अपने आज को नष्ट कर देते हैं ।

हर समय और ज्यादा मेहनत करके नियत और भूख-प्यास खत्म करके और ज्यादा कमाने की कोशिश करने लगते हैं और हमेशा यही सोचते हैं कि मुझे इतना सा और मिल जाए फिर मैं बहुत खुश रहूंगा और कभी भी खुश और संतुष्ट नहीं हो पाते ।

राजा को अपना उत्तर मिल चुका था राजा ने 1000 अशर्फियों से और सलाहकार को पुरस्कृत किया ।

दोस्तों आज हम सभी लोग 99 का खेल खेलने में लगे हुए हैं । आगे बढ़ने के नाम पर बस लालच को बढ़ाते जा रहे हैं, इस कहानी से हमे यही शिक्षा मिलती है कि काम का आलस और पैसो का लालच हमें कभी भी महान नहीं बनने देता ।

आपका बहुमूल्य समय देने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद ।

दोस्तों ये “Moral Story in Hindi” आपको कैसी लगी । यदि आपको ये “99 का खेल – Moral Story in Hindi” अच्छी लगी हो तो आप इसे अपने दोस्तों के साथ भी Share कर सकते हैं ।

HINDIVIP.COM के YOUTUBE CHANNEL को भी SUBSCRIBE करें

NOTE — हमारा उद्देश्य ज्ञान को बांटना (share) है और यह काम हम अकेले नहीं कर सकते क्योंकि इस दुनिया का सारा ज्ञान हमारे पास नहीं है और हम भी आपकी तरह एक ही सामान्य व्यक्ति है जो दिन में खुली आँखों से सपने देखते है और उन्हें पूरा करने के लिए कोशिश करते रहते है | दोस्तों ज्ञान बांटने से बढ़ता है इसलिए आप भी HINDIVIP के इस अनमोल मंच से जुड़े एंव अपने ज्ञान को हमारे साथ share करें, हम आपके द्वारा भेजे गए सभी अच्छे लेखों को Website पर publish करेंगे| आप अपने लेख हमें hindivip07@gmail.com या हमारे Whatsapp Number ( 85569-78342 ) पर भेज सकते है ।

Spread the love by Sharing

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *